1. mistupoddar056@gmail.com : Bangla : Bangla
  2. admin@jatiyokhobor.com : jatiyokhobor :
  3. suhagranalive@gmail.com : Suhag Rana : Suhag Rana
শুক্রবার, ২৫ জুন ২০২১, ০১:২৯ অপরাহ্ন
শিরোনাম :
ধন্যবাদ জানাই  গুগলকে আমাদের প্রচেষ্টাকে সম্মান করার জন্য পৃথিবীর অভ্যন্তরীণ গতিবিধি থেকে নতুন সিদ্ধান্ত নিয়েছেন বিজ্ঞানিরা করোনার ভ্যাকসিনের বিশ্বব্যাপী বিতরণ শুরু দ্রুত ভ্রমণের জন্য মহাকাশে হাই বে পথও আছে ভিটামিন ডি করোনার মৃত্যুর ঝুঁকি হ্রাস করে গবেষণায় জানা গেছে জীবনের অনেক চিহ্ন এখনও মঙ্গল গ্রহের পরিবেশে বিদ্যমান অক্সিজেনের সাহায্যে বয়সকে মাত দিতে চলেছেন বিজ্ঞানিরা এর ডানার বিস্তার ছিল বিশ ফুট ছিলো প্রাগতৈহাসিক যুগে গুরু এবং শনি একে অপরের নিকটে আসছে হত্যা চেষ্টা মামলার আসামী নিশির সাথে কেন্দ্রীয় ছাত্রলীগের সেক্রেটারি লেখকের অনৈতিক সম্পর্কের অভিযোগ রাশিয়ান বিজ্ঞানী কে হত্যা করা হয়েছে করোনার ভ্যাকসিনের সাথে যুক্ত ছিলেন গুদামে সরবরাহিত চিনি জেলা প্রশাসক অফিসে জানানো হবে মানসিক হয়রানি তদন্ত এবং দুই ব্যক্তির বিরুদ্ধে ব্যবস্থা নেওয়া ভারতীয় সেনাবাহিনীর ইউনিফর্ম পরিবর্তন করা হবে চিকিত্সার অভাবে মারা গেল লাপুংয়ের কেওয়াত টালির দরিদ্র শ্রমিক

आलोक वर्मा ने अपने खिलाफ रिपोर्ट को साजिश बताया

Reporter Name
  • পোষ্ট করেছে : Saturday, 5 October, 2019
  • ১৫ জন দেখেছেন

नईदिल्लीः आलोक वर्मा ने अपने खिलाफ प्रसारित एक सूचना को बड़ी साजिश का हिस्सा बताया है।

सीबीआई के पूर्व निदेशक आलोक वर्मा ने अपने खिलाफ साजिश की चर्चा की है।

दरअसल मीडिया में उनके खिलाफ एक खबर चलने के बाद उन्होंने यह प्रतिक्रिया दी है।

श्री वर्मा ने कहा कि यह बात ही गलत है कि उन्होंने राष्ट्रपति को कोई चिट्ठी लिखी थी।

उन्होंने स्पष्ट तौर पर कहा कि एक मीडिया चैनल ने जानबूझकर इस अफवाह को फैलाने का काम किया है।

यह कोई गलती नहीं है बल्कि एक सोची समझी साजिश है।

उन्होंने कहा कि दरअसल वैसी किसी चिट्ठी का हवाला दिया जा रहा है, जो उन्होंने कभी लिखी ही नहीं है।

इसी वजह से इस पूरे प्रकरण मे साजिश के संकेत मिलते हैं।

उल्लेखनीय है कि राकेश अस्थाना के खिलाफ जांच की स्वीकृति देने के बाद आनन फानन में उन्हें सीबीआई के निदेशक पद से हटा दिया गया था।

सुप्रीम कोर्ट के निर्देश पर अपने पद पर उन्हें सरकार ने बहाल तो किया था लेकिन दो दिन बाद ही फिर से उनका स्थानांतरण कर दिया गया था।

उसके बाद श्री वर्मा ने स्वैच्छिक सेवानिवृत्ति ले ली थी।

जिस पर गृह मंत्रालय ने उनके खिलाफ कार्रवाई की प्रक्रिया प्रारंभ की थी।

आलोक वर्मा सीबीआई विवाद की वजह से चर्चा में आये थे

सीबीआई के निदेशक पद पर रहते हुए उन्होने सीबीआई के अतिरिक्त निदेशक राकेश अस्थाना के खिलाफ घूसखोरी की जांच के आदेश दिये थे।

इसी वजह से आनन फानन में सरकार हरकत में आ गयी थी।

दरअसल गुजरात कैडर के राकेश अस्थाना नरेंद्र मोदी और अमित शाह के करीबी अफसर माने जाते हैं।

उन्हें सीबीआई निदेशक बनाने के मकसद से ही वहां लाया गया था।

इस बीच विवाद उभरने की वजह से दोनों ही अधिकारियों को वहां से हटाने का फैसला सरकार को लेना पड़ा।

Please Share This Post in Your Social Media

More News Of This Category

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

ব্রেকিং নিউজ
Bengali English Hindi